उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

बुधवार, 28 जनवरी 2009

देखिये और न ........................

देखिये और ना बेगाना समझिये हमको
प्यार से देखिये दीवाना समझिये हमको

हमसे अब छोड़ भी दो शर्मो-हया जान--जिगर
शम्मां हैं आप तो परवाना समझिये हमको

जो सुराही के लिए छान रहा मैखाने
प्यासा, भटका हुआ, पैमाना समझिये हमको

जिसको अल्लाह ने भेजा है तुम्हारी खातिर
वो ही नाचीज़ सा नजराना समझिये हमको

जिसमें राधा का कन्हैया से मिलन होता है
उससे मिलता हुआ अफसाना समझिये हमको

----------------------------

4 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

जिसमें राधा का कन्हैया से मिलन होता है
उससे मिलता हुआ अफसाना समझिये हमको

बहुत खूब.............
मज़ा आ गया साहब

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया. आनन्द आया.

Puneet Sahalot ने कहा…

aisa lag raha h jaise...
sara pyaar abhi umad aya hai... wo bhi ekdum saadgi ke saath.

:)

अल्पना वर्मा ने कहा…

जिसमें राधा का कन्हैया से मिलन होता है
उससे मिलता हुआ अफसाना समझिये हमको

behad sundar!


ab to ruuthi hui premika bhi man jayegi!