उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

गुरुवार, 12 मार्च 2009

अब तो हमने ................

अब तो हमने, चाँद अपना कर लिया
हाँ, हकीकत ,एक सपना कर लिया

अब गुलों पर राज अपना हो गया
सारा गुलशन खुशबुओं से भर लिया

अब किराये के बचेंगे कुछ रूपये
ये खुशी है जब से अपना घर लिया

उस रोज़ से कीमत हमारी ना रही
जब से पत्नी ने हमें वर लिया

तुम सलीबों पर चढोगे सोच लो
नाम तुमने प्यार का , भी गर लिया

ढाई अक्षर प्रेम का जिसने जिया
मोक्ष पाया उसने तो, वो तर लिया

*

वो मोहल्ले भर का नेता हो गया
जब से उसने हाथ में खंज़र लिया

हो गई मशहूर उसकी वो ग़ज़ल
जिसमें उसने प्यार का मंज़र लिया

दाने दाने को हुआ मोहताज़ वो
जब से उसने खेत वो बंज़र लिया

असलियत उसकी मुकाबिल गई
जैसे उसने पैग एक अन्दर लिया

परदेस में बेशक वो जाकर बस गए
नाम अपने देश का जमकर किया (लिया)
*************************

9 टिप्‍पणियां:

"अर्श" ने कहा…

वाह जी वाह खूब कही आपने भी हर शे'र काबिले गौर है...
दाने दाने को हुआ मोहताज वो... क्या बात कही है आपने... बहोत खूब... शे'र-इ-अंजुमन में मज़ा आगया ... ढेरो बढ़ाई आपको... कबूल करें...


अर्श

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

होली मुबारक...
achhi rachna ke liye badhai...

नीरज गोस्वामी ने कहा…

उस रोज से कीमत हमारी ना रही
जब से पत्नी ने हमें आ वर लिया

आपने तो हर पति की व्यथा कह दी इन दो लाईनों में...बहुत ही अच्छी रचना...वाह.
नीरज

मुंहफट ने कहा…

अब गुलों पर राज अपना हो गया
सारा गुलशन खुशबुओं से भर लिया
....वाह.अच्छा लिखा है आपने.बधाई.

Puneet Sahalot ने कहा…

waah.. uncle..
ye to sabse alag rachna rahi aapki..
bahut hi khoob... :)

neeshoo ने कहा…

बहुत खूब , लाजवाब । आनंदित हो गये हमको पढ़कर । बधाई

amitabhpriyadarshi ने कहा…

अब तो हमने, चाँद अपना कर लिया
हाँ, हकीकत ,एक सपना कर लिया

तुम सलीबों पर चढोगे सोच लो
नाम तुमने प्यार का , भी गर लिया

dil ko chhune wali panktiyaan.

khali panne

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वो मोहल्ले भर का नेता हो गया
जब से उसने हाथ में खंज़र लिया
दाने दाने को हुआ मोहताज़ वो
जब से उसने खेत वो बंज़र लिया

swapan जी
खूबसूरत रचना है...हर शेर काबिले गौर... बधाई.

अल्पना वर्मा ने कहा…

देर से पहुँचने के लिए माफ़ी..
योगेश जी,
बहुत ही खुबसूरत ग़ज़ल लिखी है आप ने...सभी शेर अच्छे लगे..ये दो कुछ खास तव्वोजोह मांग रहे हैं.

हो गई मशहूर उसकी वो ग़ज़ल
जिसमें उसने प्यार का मंज़र लिया

तुम सलीबों पर चढोगे सोच लो
नाम तुमने प्यार का , भी गर लिया

-बधाई.