उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

गुरुवार, 29 अक्तूबर 2009

खोजता था अपना नाम .............

खोजता था अपना नाम उसके हाथों में कहीं
क्या लकीरें इश्क की , हाथ में होती नहीं हैं?

सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है  वो दीवानी आज कल सोती नहीं है

अश्क बनकर बरस जाऊं उसकी आँखों से कभी
मेरी किस्मत, मौन है वो, आजकल रोती नहीं है

सीपियाँ तो खोज लाया मोतियों की चाह में
देख कर हैरां हूँ इनमें बूँद हैं मोती  नहीं है

मैं तो मिटना चाहता था एक पतंगे की तरह
उस शमा में मोम तो है ,ज्योत है, ज्योति नहीं है

मैंने कितने बीज खुशियों के दिए उसको मगर
क्यूँ दबा देती बरफ में , बीज, क्यूँ बोती नहीं है


*****************
 मेरा http://swapnyogeshverma.blogspot.com/  ब्लॉग भी देखें.
*





21 टिप्‍पणियां:

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है वो दीवानी आज कल सोती नहीं है

बेहतरीन अभिव्यक्ति...लाज़वाब रचना....धन्यवाद!!!

परमजीत बाली ने कहा…

योगेश जी,बहुत उम्दा रचना है।बहुत ही सुन्दर भाव हैं।बधाई स्वीकारें।

सीपियाँ तो खोज लाया मोतियों की चाह में
देख कर हैरां हूँ इनमें बूँद हैं मोती नहीं है

संगीता पुरी ने कहा…

गजब की रचना .. बहुत पसंद आयी आज ये !!

mehek ने कहा…

अश्क बनकर बरस जाऊं उसकी आँखों से कभी
मेरी किस्मत, मौन है वो, आजकल रोती नहीं है

सीपियाँ तो खोज लाया मोतियों की चाह में
देख कर हैरां हूँ इनमें बूँद हैं मोती नहीं है
waah behtarin abhivyakti.

kshama ने कहा…

Itne sawalon ke jawab jeevan me kab mile?Kyon kisee shama me jyot hai, jyoti nahi, raushnee nahee?

वन्दना ने कहा…

aaj ki aapki rachna sabse sashakt rachna hai.........wakai jaise ek ek amulya moti dhoondhkar aaye hain aap...........kis kis pankti ki tarif karun..........ha rpankti dil ko bahut gahre tak chhoo gayi hai............tarif ke liye shabd bhi kam pad rahe hain..........ise sambhal kar rakhiyega bahut hi kamaal ka likha hai.

kshama ने कहा…

Kiskee lakeeron me kiska naam? Kaun samajh paya?

renu ahuja ने कहा…

ati sundar baav,
ati sunder abhivyakti,
shabd gunthan itnaa sundar
gunjaaymaan huyee hriday bhakti.

aapkaa blog sarahniya hai.
smt. renu ahuja.

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

सुंदर रचना के लिये साधुवाद स्वीकारें......

"अर्श" ने कहा…

रचना अछि है और भाव भी गहरे लिए है दूसरा शे'र खासा पसंद आया बहुत बहुत बधाई ताऊ जी


अर्श

M VERMA ने कहा…

सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है वो दीवानी आज कल सोती नहीं है
जागते मे भी कुछ लोग स्वप्न देख लेते है.
बहुत सुन्दर रचना

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है वो दीवानी आज कल सोती नहीं है...
GAHRI BAAT SWAPAN JI ...

मैंने कितने बीज खुशियों के दिए उसको मगर
क्यूँ दबा देती बरफ में , बीज, क्यूँ बोती नहीं है..
LAJAWAAB SHER BHSI YE ... DARD CHIPA HAI MAAYUSI KA IS SHER MAIN ...

ज्योति सिंह ने कहा…

सीपियाँ तो खोज लाया मोतियों की चाह में
देख कर हैरां हूँ इनमें बूँद हैं मोती नहीं है
सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है वो दीवानी आज कल सोती नहीं है
bahut hi shaandar aur manmohak rachna ,saath hi gahare arth liye huye ,man ko bha gayi ,aapki tippani me kahi baton ka jawab de di hoon .

Harkirat Haqeer ने कहा…

खोजता था अपना नाम उसके हाथों में कहीं
क्या लकीरें इश्क की हाथ में होती नहीं है

कमाल .....!!

सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है वो दीवानी आज कल सोती नहीं है

वाह......लाजवाब....!!

सीपियाँ तो खोज लाया मोतियों की चाह में
देख कर हैरां हूँ इनमें बूँद हैं मोती नहीं है

वाह....बहुत खूब....!!

स्वप्न जी नायाब नगीने ढूंढ कर लाये हैं इस बार ....!!

Nirmla Kapila ने कहा…

सोचता था----- और अश्क बन कर ----
बहुत सुन्दर शुभकामनायें

नवीन त्यागी ने कहा…

swapn g bahut sundar rachna hai.

Jogi ने कहा…

सोचता था स्वप्न में ही उससे मिल आऊं कभी
पर सुना है वो दीवानी आज कल सोती नहीं है
waah ji waah...bahut hi achhi rachna ...

शरद कोकास ने कहा…

कविता अच्छी है । आपका टेम्प्लेट खुलने मे बहुत देर लगती है इसे सम्भव हो तो बदलिये ।

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

अश्क बनकर बरस जाऊं उसकी आँखों से कभी
मेरी किस्मत, मौन है वो, आजकल रोती नहीं है

सीपियाँ तो खोज लाया मोतियों की चाह में
देख कर हैरां हूँ इनमें बूँद हैं मोती नहीं है

मैं तो मिटना चाहता था एक पतंगे की तरह
उस शमा में मोम तो है ,ज्योत है, ज्योति नहीं है

मैंने कितने बीज खुशियों के दिए उसको मगर
क्यूँ दबा देती बरफ में , बीज, क्यूँ बोती नहीं है

वाह स्वप्न जी
ब्लॉग खुलते ही पहले राधा कृष्ण के दर्शन फिर एक बेहतरीन नज्म का आगमन

आ रहा है धीरे धीरे रंगे हिना
खुल रहा है हुनर खूबिया तू गिना

संदीप 'शालीन ' ने कहा…

swapn ji bahut hi sunder abhiyakti !
mere post padhakar lagatar protsahan dene ke liye bahut-2 dhanyabad.
mere dusare blog BHARAT AUR MAHABHARAT par likhe vyang MAIYA MAI TO CHANDRA KHILAUNA LAIHO..par aap ke comment ka mujhe besabri se intejar hai.

निर्झर'नीर ने कहा…

सुन्दर अति सुन्दर ..हर शेर में कशिश और गहराई
दाद हाज़िर है ..कुबूल करें