उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

बुधवार, 13 जुलाई 2011

सहज मिलेंगे श्याम प्यार करके तो देखो

सहज मिलेंगे श्याम प्यार करके तो देखो

सहज मिलेंगे श्याम प्यार करके तो देखो
उसकी खातिर कभी आँख भर के तो देखो

सिर्फ प्यार का भूखा है  मेरा ठाकुर
मेरी बात पर ऐतबार करके तो देखो

आएगा , आता है," वो" सबका प्रेमी
मन -मंदिर अपना बुहार करके तो देखो

न्यौछावर कर दो, उस पर, सब कुछ अपना
सोचो मत बस एक बार करके तो देखो

छिपा हुआ है वही तुम्हारे तन मन में
नयन मूँद उसको निहार करके तो देखो

कभी तो रोओ तड़पो उसको पाने को
मेरी बातों पर विचार करके तो देखो

"स्वप्न" मिल गई है बहार, उसको पाकर
जीवन अपना भी, बहार करके तो देखो  

*********
  



 

2 टिप्‍पणियां:

kshama ने कहा…

Pyaar hee to nahee karte ham!

मिलिंद / Milind ने कहा…

बहुत खूब. कविता पसंद आयी.