उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

सोमवार, 30 मार्च 2009

चिंगारी ही एक दिन ज्वाला बनती है.

एक रचना प्रस्तुत कर रहा हूँ , जो २६.०२.२००९ को लिखी थी, किसी परिस्थिति को देख कर कुछ क्रोध गया था , वही क्रोध प्रस्तुत कविता की पंक्तियों में परिवर्तित हो गयादेखें आपको कैसी लगती है, मेरे क्रोध से उपजी ये रचना



चिंगारी ही एक दिन ज्वाला बनती है
बूँद-बूँद ही बनकर नदी उफनती है
इस दुनिया में किसी को छोटा ना समझो
चींटी भी हाथी को भारी पड़ती है
चिंगारी ही एक दिन ..............................


इस निष्ठुर ह्रदय में थोडी दया भरो
अगर बड़े हो तो छोटों को क्षमा करो
आह की अग्नि तुम्हें एक दिन खायेगी
आह से तो भारी इस्पात पिघलती है
चिंगारी ही एक दिन ..............................


देख रहा "वो" सब कुछ उससे डरो जरा
शर्म अगर आती हो थोडी करो जरा
ऊँट पहाड़ के नीचे एक दिन आएगा
दुनिया में ना सदा किसी की चलती है
चिंगारी ही एक दिन ..............................

अपने से छोटों का शोषण करने को
अपने अंहकार का पोषण करने को
सहनशीलता धरती की मत ललकारो
धरती भी गुस्से में आग उगलती है
चिंगारी ही एक दिन ..............................

13 टिप्‍पणियां:

संध्या आर्य ने कहा…

अपने से छोटों का शोषण करने को
अपने अंहकार का पोषण करने को
सहनशीलता धरती की मत ललकारो
धरती भी गुस्से में आग उगलती है
बहुत ही सही बात कही है आपने, कई बार तो अपने कहे जाने वाले रिश्ते भी ज्वाला बनने पर मजबूर कर देते है या किसी व्यक्ति के लिये कोई परिस्थति विशे स भी और कुछ नही उनका निरंकुश हो जाने के कारन ही चिंगारी ज्वाला बनने पर मजबुर हो जाती है,शायद....... अच्छी रचना

ओम आर्य ने कहा…

गुस्सा निकल जाए तो अच्छा है, किसी भी माध्यम से, वैसे यह एक उर्जा है और इसका सकारात्मक इस्तेमाल किया है आपने.

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत बढिया लिखा है आपने ... बहुत बहुत बधाई।

ड़ा.योगेन्द्र मणि कौशिक ने कहा…

सहनशीलता धरती की मत ललकारो
धरती भी गुस्से में आग उगलती है।
बहुत सटीक लिखा है आपने.....।

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" ने कहा…

पंक्तियाँ अच्छी लगीं.
> चिंगारी ही एक दिन ज्वाला बनती है
बूँद-बूँद ही बनकर नदी उफनती है
- विजय

अल्पना वर्मा ने कहा…

सहनशीलता धरती की मत ललकारो
धरती भी गुस्से में आग उगलती है

यह क्रोध में लिखी हुई है मगर बहुत सटीक बातें कहती हुई सफल रचना बन गयी है.
आप ने क्रोध को सकारात्मक रूप दे दिया..yahi to एक रचनाकार होता है.

vandana ने कहा…

bhavon ko pradarshit karti kavita.

विनय ने कहा…

आपकी तो हर रचना बहुत सुन्दर होती है!


---
तख़लीक़-ए-नज़र

दिगम्बर नासवा ने कहा…

इस निष्ठुर ह्रदय में थोडी दया भरो
अगर बड़े हो तो छोटों को क्षमा करो
आह की अग्नि तुम्हें एक दिन खायेगी
आह से तो भारी इस्पात पिघलती है

स्वपन जी
आप भी अपना क्रोध ऐसे ही निकाल दें....
रचना बहूत ही सुन्दर बनी है, बधाई हो आपको

"अर्श" ने कहा…

SATYA ME ,GAZAB KI RACHNA HAI YE TO ... DER SE AANE KE LIYE MUAAFI CHAHUNGA... JAISA KI OM AARYA JI AUR ALPANA JI NE KAHA HAI KE AAPNE APNE GUSSE ME EK SAAKARAATMAK SOCH KO JANM DIYA HAI ,SAHI HAI YE EK URJA HAI AUR US URJA KA AAPNE EK SHILPI KI TARAH MUKAMMAL RACHNA KO ANJAAM DIYA HAI... BAHOT BAHOT BADHAAEE AAPKO...

ARSH

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

अपने से छोटों का शोषण करने को
अपने अंहकार का पोषण करने को
सहनशीलता धरती की मत ललकारो
धरती भी गुस्से में आग उगलती है

गुस्सा एक उर्जा है और इसका सकारात्मक इस्तेमाल किया है आपने.

बहुत बहुत बधाई।

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

धरती भी गुस्से में आग उगलती है............ वाकई बेहतरीन रचना, स्वप्न जी... आप गुस्से में लिखें या खुशी में अच्छा ही लिखते हैं.. बधाई..

bhootnath( भूतनाथ) ने कहा…

बिलकुल सच कहा आपने.....चिंगारियां तो सब तरफ उठ रही हैं हैं.....अब देखें की कब वो आग बनती हैं...