उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

शनिवार, 17 जनवरी 2009

हमको मनमोहन से ...(एक भजन)

हमको मनमोहन से मिलवाय दो , किशोरी राधे प्यारी
हमको मनमोहन से मिलवाय दो , किशोरी राधे प्यारी
किशोरी राधे प्यारी , प्यारी बरसाने वारी
एक बार दरस तो करवाय दो , किशोरी राधे प्यारी
हमको मन मोहन से..............................................

सुनते हैं पहचान तुम्हारी ,मनमोहन से है जन्मों की
कृपा करो हम पर भी अब तो , जला दो गठरी सब कर्मों की
पहचान हमारी करवाय दो, किशोरी राधे प्यारी
किशोरी राधे प्यारी, प्यारी बरसाने वारी
हमको मन मोहन.....................................................

एक इशारा काफ़ी है बस, तेरा ओ मोहन की प्यारी
दया दृष्टि हम पर भी कर दो, कृष्ण -प्रिया वृषभान-दुलारी
मोहन से नयना मिलवाय दो , किशोरी राधे प्यारी
किशोरी राधे प्यारी,प्यारी बरसाने वारी
हमको मनमोहन से.................................................

हम भी सीखें प्रीत की भाषा, पूरी हो जन्मों की आशा
इच्छाएं मिट गई हैं सारी , श्याम मिलन की बस अभिलाषा
वंशी की धुन तो सुनवाय दो , किशोरी राधे प्यारी
किशोरी राधे प्यारी, प्यारी बरसाने वारी
हमको मनमोहन से...............................................

.......................................

4 टिप्‍पणियां:

SWAPN ने कहा…

PICHHLI RACHNA "ISHQ" PAR TIPPNI KE LIYE AAP SABHI PATHAKON KA HARDIK DHANYAWAD. MAIN ASHA KARTA HUN AAP MERI RACHNAON KI KAMIAN BHI UJAGAR KARENGE. MUJHE KHUSHI HOGI. SWAPN

Udan Tashtari ने कहा…

अब से यही भजन गाया करेंगे. :)

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

बढ़िया रचना . खूब लिखते रहिये .बधाई.

अल्पना वर्मा ने कहा…

bahut hi sundar bhajan hai..