उपरोक्त शीर्षक चित्र श्री श्री राधा श्याम सुंदर , इस्कान मंदिर वृन्दावन, तिथि 15.04.2010 के दर्शन (vrindavan darshan से साभार ).

शनिवार, 17 जनवरी 2009

मेरा भारत

मुझे है जान से प्यारा , मेरा भारत,मेरा भारत,
है जग की आँख का तारा ,मेरा भारत, मेरा भारत

शहीदों ने बहाकर खूं, जिसे दिलवाई आजादी
भगत सिंह ,राज और सुखदेव ने की ,मौत से शादी
वही है राम का, गोविन्द का, भारत ,मेरा भारत
मुझे है.........................................................

हिमालय है मुकुट जिसका, चरण धोता रहा सागर
विवेकानंद ने जिसके, जगाया दुनिया को जाकर
वही गंगा का, यमुना का , मेरा भारत, मेरा भारत
मुझे है.........................................................

जहाँ गौतम ने, नानक ने, बहाई प्रेम की धारा
किशन का जन्म होता है, जहाँ पर तोड़ कर कारा
वही मीरा का तुलसी का , मेरा भारत, मेरा भारत
मुझे है.........................................................

इसे सोने की चिडिया दोस्तों, मिलकर बनायें हम
मिटायें पाप भ्रष्टाचार , लोगों के मिटायें गम
जो है, बापू का, नेहरू का, "स्वप्न" भारत, मेरा भारत
मुझे है..............................................................

सदा संसार को देता रहा, जो ज्ञान सदियों से
जिसे है देवताओं का अमर, वरदान सदियों से
मिटा है ना मिटेगा, है, गुरुद्वारा, मेरा भारत
मुझे है..............................................................

-------------------------------------

सात आठ वर्ष पहले की यह रचना बेटे को स्कूल में सुनाने के लिए लिख कर दी थी।
बेटा अब भारतीय नौसेना में है और २००९ की २६ जनवरी की परेड में हिस्सा ले रहा है।
२६ जनवरी के उपलक्ष्य में यह आप सब को समर्पित है। बेटे को आशीर्वाद दें। धन्यवाद

8 टिप्‍पणियां:

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

bahut badhiya rachana .
mera bharat mahaan

Nirmla Kapila ने कहा…

आपका ब्लोग तो सपनो जैसा है ही रचना बहुत सुन्दर है जय हिन्द्

अल्पना वर्मा ने कहा…

bahut hi achchee kavita hai..bharat prem ko darshati hui..sarthak rahi...kyonki isee jajbey se aap ke bete ne sena mein apna career chuna.badhayee.

meri taraf se aap ke bete ko bahut bahut shubhkamnayen..badey garv ki baat hai..26 jan.ko pared mein bhaag le rahey hain--.gantantr diwas ki pared mein un ka safal pradarshan ho-[tasweeren milen to jarur share kareeyega]
-aur jo kasam wo sena mein ,desh ke liye samrpan ki uthaatey hain -us mein bhi khare utaren...bahut bahut shubh kamnayen.

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा रचना.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अच्छी रचना है, ..............आपके पुत्र को हमारी बधाई

संगीता पुरी ने कहा…

मुझे है जान से प्यारा , मेरा भारत,मेरा भारत,
है जग की आँख का तारा ,मेरा भारत, मेरा भारत
बहुत सुंदर....बेटे को शुभकामनाएं और आशीर्वाद।

विनय ने कहा…

बहुत ख़ूब, लिखते रहें

---
गुलाबी कोंपलें | चाँद, बादल और शाम | तकनीक दृष्टा/Tech Prevue | आनंद बक्षी | तख़लीक़-ए-नज़र

SWAPN ने कहा…

aap sab ko dhanyawad. swapn